shocking : बुजुर्ग पिता और पति ने बांधी महिला की लाश की गठरी,दिल दहला देगा सच्चाई

shocking : उत्तर प्रदेश के प्रयागराज से एक महिला के शव को ले जाए जाने का वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हो रहा है। यह वीडियो सामाजिक ताने-बाने पर सवाल खड़े कर रहा है। अस्पताल से शवों को घर तक पहुंचाने के लिए एंबुलेंस सुविधा तो मिलती है, लेकिन अगर कोई गरीब परिवार के व्यक्ति पर घर पर मौत हो जाए, शव यात्रा के साधन न हों, तो परिजन क्या करें? महिला के शव को कंधे पर लादकर पति और पिता जिस प्रकार से सड़क पर ले जाते इस वीडियो में दिख रहे हैं, वह समाज के उस स्याह सच को सामने ला रहा है। यह वीडियो दिल को दहलाने वाला है। महिला की शुक्रवार को बीमारी के कारण मृत्यु हो गई।

Read More:Delhi Metro में नया कांड,महिलाओं की सीट ऐसी परिस्थिति में जाकर बैठा युवक,जानकर चौक जायेंगे

मामला प्रयागराज के झूंसी के नीबी गांव का है। मजदूर की पत्नी की मौत के बाद न तो अर्थी साजने के पैसे थे। न ही चार कंधे। ऐसे में बुजुर्ग पिता और पति ने अंतिम संस्कार के लिए महिला की लाश को गठरी में बांधा। एक बांस के सहारे गठरी को टांगा। श्मशान घाट की तरफ निकल गए। लोगों ने जब एक महिला की लाश को यूं गठरी में बांधकर ले जाते देखा तो हैरान रह गए। थकते दोनों जब गठरी को रखते दिखे तो लोगों ने ऐसे शव को ले जाने का कारण पूछा। दोनों ने जब पूरा मामला बताया तो हर कोई सिहर उठा।

राहगीरों ने की मदद

प्रयागराज में गंगापार झूंसी में बांस में कपड़ा बांधकर एक महिला का शव ले जा रहे उसके पति और पिता की पुलिस और राहगीरों ने मदद की। झूंसी के थाना प्रभारी उपेन्द्र प्रताप सिंह ने बताया कि नीबी गांव में मुसहर जाति के लोग पत्तल बेचकर जीवन यापन करते हैं। उन्हीं के समुदाय के नखड़ू की पत्नी अनीता (26) काफी दिनों से बीमार थी। शुक्रवार को उसका देहांत हो गया। उन्होंने बताया कि मृतका के परिवार के पास शव को वाहन से ले जाने के लिए पैसे नहीं थे। इसलिए उन्होंने न तो कोई एंबुलेंस बुलाया और न ही शव ले जाने वाला कोई वाहन बुलाया।

Read More:Shocking : 5वीं की मासूम छात्रा के साथ प्रिंसिपल का अमानवीय व्यवहार,सदमे में छात्रा,आरोपी प्रिंसिपल के खिलाफ मामला दर्ज

घाट करीब होने की वजह से पति नखड़ू और पिता मैनेजर बांस में चादर बांधकर शव को उसी में ले जा रहे थे। राहगीरों ने जब यह देखा तो पुलिस को इसकी सूचना दी। सिंह ने बताया कि इस सूचना पर छतनाग चौकी प्रभारी नवीन सिंह ने उनसे पूछताछ की। एक ई- रिक्शा की मदद से शव को श्मशान पहुंचाया। दाह संस्कार के लिए राहगीरों ने मिलकर पैसा इकट्ठा किया और मृतका के परिजनों को दिया। इसके बाद संस्कार की प्रक्रिया पूरी कराई जा सकी।

अखिलेश ने शेयर किया वीडियो

प्रयागराज के सोशल मीडिया पर वायरल हो रहे वीडियो को समाजवादी पार्टी अध्यक्ष और पूर्व सीएम अखिलेश यादव ने भी शेयर किया है। इस वीडियो के बारे में मृतक महिला के पति नखड़ू ने कहा कि पत्नी कई दिनों से बीमार थी। उसकी मृत्यु हो गई थी। पैसों की व्यवस्था नहीं होने पर मजबूरी में बांस में बांध कर दारागंज पुल के नीचे बसे रिश्तेदारों के पास ले जाकर अंतिम संस्कार करना चाहते थे। मृतका अनीता के पिता मैनेजर ने कहा कि पैसा नहीं होने के कारण मजबूरी में पैदल बांस में बांधकर शव ले जाना पड़ रहा था।

Read More: Rail Hadsa : पटरी छोड़ प्लेटफॉर्म पर चढ़ी ट्रेन, मची अफरा-तफरी, देखें वीडियो…

मुंशी का पूरा निवासी मित्र सुभाष यादव और ओम प्रकाश ने पुलिस को घटना की जानकारी देकर बताया कि इनके कुछ व्यवस्था की जाए। सूचना मिलने पर पुलिस मौके पर पहुंची। इससे पहले मदद के लिएदर्जनों लोगों की भीड़ जुट गई थी। सुभाष और ओम प्रकाश ने तत्काल 500-500 रुपये की मदद की। इसके बाद अन्य लोगों ने भी मदद का हाथ बढ़ाया। इसके बाद शव को दारागंज शमशान घाट पर भेज दिया गया।

Related Articles

Back to top button