Shocking : समुद्र में डूबा 14 साल लड़का, भगवान गणेश की मूर्ति ने बचाई जान,सच्चाई जान चौक जायेंगे आप

Shocking :  इसे कुदरत का करिश्मा कहें या नसीब का खेल… एक लड़का गणेश मूर्ति के विसर्जन के दौरान समुद्र में डूब जाता है। एक दिन भी बीत जाता है, लेकिन लड़का बाहर नहीं आता। परिवार के लोग समझ लेते हैं कि बच्चा अब जिंदा नहीं बचा है, लेकिन तभी एक चमत्कार होता, जिससे हर कोई हैरान रह जाता है।

गुजरात के सूरत की घटना

दरअसल, यह घटना पीएम मोदी के गृह राज्य गुजरात के सूरत जिले की है। यहां पांचवीं कक्षा में पढ़ने वाला 14 वर्षीय एक छात्र गणेश मूर्तियों का विसर्जन देखने डूमस समुद्र तट पर गया हुआ था। इसी दौरान वह डूब गया।

रिजनों ने बच्चे के जिंदा होने की छोड़ी आस

परिवार के सदस्यों ने काफी देर तक लड़के की तलाश की, लेकिन वह नहीं मिला। अगले दिन फिर परिवार के लोग बच्चे को ढूढ़ने जाते हैं, लेकिन उसका फिर भी पता नहीं चलता है। आखिरकार, वे यह मान लेते हैं कि लड़का अब इस दुनिया में नहीं रहा।

… फिर हुआ चमत्कार

हालांकि, बड़ा चमत्कार उस समय देखने को मिला, जब वही लड़का जिंदा घर पहुंचता है। उसको जीवित देखकर घरवालों की खुशी का ठिकाना नहीं रहता। वे उससे पूछते हैं कि वह अभी तक कहां था और समुद्र में डूबने के बाद भी कैसे जिंदा रहा। फिर बच्चे ने जो कुछ भी बताया, उसने सबको हैरान कर दिया।

Read More:Rahul-Disha के घर आई नन्ही मेहमान, बिग बॉस 17 से संवरेगा रिया चक्रवर्ती का करियर!

भगवान गणेश की मूर्ति बना बच्चे का सहारा

दरअसल, जब बच्चा समुद्र में डूब रहा था तो उसे भगवान गणेश की मूर्ति का सहारा मिला। वह 24 घंटे तक समुद्र में मूर्ति के सहारे रहा। जब उसके पास से मछली पकड़ने वाली एक नौका गुजरी तो उसने हाथ हिलाकर आवाज दी। इस पर मछुआरे उसके पास गए और उसे नाव में बिठाया।

Read More:Arjun Kapoor की बहन ने कैमरा के सामने उतार फेंके अपने ब्रा, यूजर्स बोले – ऐसे सब नहीं डालना…

बच्चे को अस्पताल में कराया गया भर्ती

बच्चे को इसके बाद नवसारी के धोआली बंदरगाह पर ले आया गया। यहां उसे एंबुलेंस से अस्पताल ले जाया गया, जहां उसका इलाज चल रहा है। बच्चे के जिंदा वापस लौटने और समुद्र में एक दिन से अधिक समय तक रहने की घटना से हर कोई हैरान है।

29 सितंबर की घटना

नवसारी के पुलिस प्रमुख ने बताया कि यह घटना 29 सितंबर की है। बच्चे का नाम लखन देवीपूजक है।  जब मछुआरों ने उसे नाव में बिठाया, उस समय वह तट से 22 किलोमीटर दूर पहुंच गया था। उसे इलाज के लिए अस्पताल में भर्ती कराया गया है।

Related Articles

Back to top button