Salt Price: अब नमक की कीमत पहुंचा सातवें आसमान पर, 300 फीसदी बढ़े दाम,खरीददारी के लिए मची मारामारी

Salt Price: ची में इन दिनों नमक के लिए मारामारी मची हुई है. चीन के कुछ बाजारों में हडकंप की स्थिति बन गई. लोग बेतहाशा नमक खरीदने लगे. चाइना सॉल्ट एसोसिशन को बयान जारी करना पड़ा. लेकिन चीन के बीजिंग में रहने वाले पत्रकार अखिल पाराशर न्यूज़ नेशन के कहने पर सुपर मार्केट में पहुंचे जहां नमक के दाम उन्हें सामान्य मिले. यानी चीन के कुछ हिस्सों में नमक को लेकर मारामारी की स्थिति जरूर बनी लेकिन, कमोबेश हालात सामान्य हैं. हां, जापानी सीफूड पर बैन एक बड़ा फैसला है और इसका असर देर तक होगासोशल मीडिया पर तमाम ऐसे वीडियोज वायरल हो रहे हैं, जिसमें लोग बोरी-बोरी नमक खरीदकर ले जाते हुए दिख रहे हैं; कई जगह तो इसके लिए हाथापाई तक की नौबत आ गई. कुछ ही घंटों में मांग इतनी ज्‍यादा हो गई कि नमक की कीमतों में 300 फीसदी तक का इजाफा देखा गया.

 

हालात यहां तक आ गई कि सरकार को हस्‍तक्षेप करना पड़ा और बकायदा बयान जारी कर बताना पड़ा कि इसकी वजह क्‍या है. लोगों को भी सरकार ने समझाया और न घबराने की सलाह दी. लेकिन ऐसा हुआ क्‍यों? जान‍िए क्‍या है पूरा मामला, क्‍यों लोग  तनाव में खरीदी  में  कर रहे हैं.जापान गुरुवार को अपने फुकुशिमा न्यूक्लियर प्लांट में स्टोर लगभग 2 हजार करोड़ लीटर जहरीला पानी प्रशांत महासागर में छोड़ने का ऐलान किया.

Read More:Fact Check: 6 महीने प्रेग्नेंट हैं खान परिवार की बहू Sonakshi Sinha! बेबी बंप देख फैंस बोले – कौन है इसका बाप मैम बता दो…

जापान इस पानी का इस्‍तेमाल अपने न्‍यूक्‍ल‍ियन पॉवर प्‍लांट के रिएक्‍टर्स को ठंडा रखने के लिए करता था. चीन और दक्ष‍िण कोर‍िया को डर है कि इसमें रेडियोएक्‍ट‍िव विकिरण हो सकते हैं, जिससे रेडिएशन फैल सकता है. चूंक‍ि इसी समुद्र के पानी का इस्‍तेमाल करके चीन अपने यहां नमक बनाता है, इसल‍िए नमक को लेकर खतरा और बढ़ गया है. जैसे ही यह खबर लोगों को हुई, उन्‍हें नमक से रेडिएशन का खतरा नजर आने लगा. इस वजह से वे तुरंत नमक की बोरियां खरीदने बाजार पहुंच गए

ग्‍लोबल टाइम्‍स ने भी स्‍वीकार

चीन के मुखपत्र कहे जाने वाले ग्‍लोबल टाइम्‍स की रिपोर्ट के मुताबिक, चाइना साल्‍ट की ओर से बयान जारी किया गया. सरकारी कंपनी ने स्‍वीकार किया कि लोग घबराकर खरीदारी कर रहे हैं, जिसकी वजह से नमक भंडार और स्‍टोर्स में साल्‍ट की कमी हो गई है. लेकिन इसे जल्‍द दूर कर लिया जाएगा. कंपनी ने लोगों से पैनिक होकर खरीदारी न करने को कहा. इसके बावजूद बीजिंग और शंघाई जैसे शहरों में पूरी रात लोग लाइनों में लगकर नमक खरीदते नजर आए.

Read More:Madhuri Dixit के रोके नहीं रुक रहे है आँसु, बोल दिया उनके इस करीबी ने दुनिया को अलविदा और अब पहुँचा पूरा बॉलीवुड उनके घर आँसु बहाने देखे तस्वीरें

ऐसा कोई पहली बार नहीं

ऐसा कोई पहली बार नहीं हुआ है. जापान में साल 2011 में जब भीषण सुनामी आई थी. उस समय फुकुशिमा न्यूक्लियर प्लांट के तीन रिएक्टर बंद हो गए थे. सुनामी ने रिएक्टर्स के कूलिंग सिस्टम को नुकसान पहुंचा. और तभी से जापान इन र‍िएक्‍टर्स को ठंडा रखने के लिए पानी का इस्‍तेमाल करने लगा. समुद्र का यह पानी अब तक 10 लाख टन से ज्‍यादा हो गया है. उस समय भी चीन में डर फैल गया था कि समुद्र के रास्‍ते विक‍िरण फैल सकता है. तब भी लोग नमक की जमकर खरीदारी करते नजर आए थे. जानकारों के मुताबिक, इस पानी में ट्राइटियम के कण मौजूद हो सकते हैं क्‍योंकि इसे पानी से अलग नहीं किया जा सकता. इसके संपर्क में अगर कोई आ जाए तो उसे कैंसर जैसी घातक बीमार‍ियां हो सकती हैं.

Related Articles

Back to top button