टीचर बनने के लिए BEd नहीं अब ITEP कोर्स होगा अनिवार्य,राष्ट्रीय अध्यापक शिक्षा परिषद (एनसीईटीई) ने जारी किया सुचना

 सुप्रीम कोर्ट के आदेश के बाद अब सरकारी स्‍कूलों में टीचर बनने के लिए BEd कोर्स मानक नहीं होगा. अब इसकी जगह लेने को तैयार है ITEP प्रोग्राम. इसे डिजाइन किया है नेशनल काउंसिल फॉर टीचर एजुकेशन यानी NCTE ने, इस इंटीग्रेटेड टीचर्स एजुकेशन प्रोग्राम यानी ITEP नाम दिया गया है. इस 4 साल के कोर्स के बाद अब साल 2030 के बाद ITEP कोर्स के जरिये ही शिक्षक भर्तियों को पूरा किया जाएगा. ये कोर्स योग्यता में शामिल होगा.

Read More:Employees Salary : अतिथि शिक्षकों को सरकार ने दिया बड़ा तोहफा,दे रही वेतन-एक्स ग्रेशिया का लाभ,58 साल की उम्र तक मिलेगी सुविधा

दरअसल, BEd कोर्स आगे भी जारी रहेगा, मगर यह केवल एकेडमिक होगा. इसके बाद पोस्‍ट ग्रेजुएशन और PHd कर सकेंगे. अगले सेशन से ही ज्‍यादातर BEd कॉलेजों में ITEP कोर्स का ऑप्‍शन शुरू हो सकता है. बता दें कि धीरे धीरे उच्च श‍िक्षा से लेकर प्राथम‍िक श‍िक्षा तक नेशनल एजुकेशन पॉलिसी को लागू किया जा रहा है. यही नहीं अध्यापन के क्षेत्र में भी नये बदलाव होने जा रहे हैं. इसी क्रम में साल 2030 से चार वर्षीय बीएड या चार-वर्षीय एकीकृत अध्यापक शिक्षा कार्यक्रम (आईटीईपी) डिग्री को अन‍िवार्य करने की तैयारी है.

राष्ट्रीय शिक्षा नीति (एनईपी) 2020 की सिफारिशों के तहत बाल वाटिका से लेकर 12वीं कक्षा तक के लिए शिक्षकों की न्यूनतम योग्यता तय की गई है. इसमें बीए-बीएड, बीएससी-बीएड और बीकॉम-बीएड शामिल हैं. फिलहाल शैक्षणिक सत्र 2023-24 से 41 विश्वविद्यालयों में पायलट प्रोजेक्ट में चार वर्षीय बीएड प्रोग्राम शुरू हो रहा है. नेशनल टेस्ट‍िंग एजेंसी  इस नेशनल कॉमन एंट्रेंस एग्जाम के लिए अगले हफ्ते ऑनलाइन एप्लीकेशन विंडो खोलेगा. राष्ट्रीय अध्यापक शिक्षा परिषद (एनसीईटीई) एनईपी 2020 की सिफारिशों के तहत ही चार वर्षीय बीएड प्रोग्राम शुरू कर रहा है.

Read More:एक्स गर्लफ्रेंड ने Salman Khan को दी धमकी अब तुम्हारा पर्दाफाश होगा

एडमिशन क्राइटेरिया 
एंट्रेंस देने वाले अभ्यर्थियों को मेरिट के आधार पर कोर्स में एडमिशन दिया जाएगा. सत्र 2024-25 से 4 वर्षीय इंटिग्रेटेड टीचर एजुकेशन प्रोग्राम ITEP के पायलट प्रोजेक्ट के लिए यूनिवर्सिटीज से आवेदन मंगाए गए हैं. अब इस नये बीएड प्रोग्राम को नये श‍िक्षा मॉडल के हिसाब से बच्चों को पढ़ाने के लिए तैयार किया जाएगा.

Read More:PM MODI ने Congress पर दागा सवाल : गोबर में जो भ्रष्टाचार करे, उसकी मानसिकता क्या होगी?

CU-Chayan से होगी यूनिवर्सिटी में भर्ती 
वहीं यूनिवर्सिटीज में फैकल्टी पदों पर भर्ती प्रक्रिया को आसान बनाने के लिए विश्वविद्यालय अनुदान आयोग (यूजीसी) ने बड़ा कदम उठाया. यूजीसी ने केंद्रीय विश्वविद्यालय (CU) फैकल्टी रिक्रूटमेंट पोर्टल सीयू- यह चयन लॉन्च किया है. इस पोर्टल की मदद से यूनिवर्सिटीज में प्रोफेसर, असिस्टेंट प्रोफेसर समेत फैकल्टी पदों पर आसानी से आवेदन करने का रास्ता आसान हो जाएगा. पोर्टल को यूजीसी के अध्यक्ष एम जगदीश कुमार ने बीती 2 मई, 2023 को लॉन्च किया. यूजीसी अध्यक्ष ने कहा कि यह पोर्टल पूरी तरह से यूजर-फ्रेंडली है और भर्ती प्रक्रिया में सभी हितधारकों की जरूरतों को पूरा करेगा. UGC ने इस पोर्टल को विश्वविद्यालयों और आवेदकों दोनों के लिए एक सक्षम प्लेटफॉर्म देने के लिए तैयार किया है.

Related Articles

Back to top button