IMD Alert : मौसम विभाग का अलर्ट जारी,इन राज्यों में पांच दिनों तक भारी बारिश

IMD Alert: देशभर में भले ही मॉनसून की वापसी हो चुकी हो, लेकिन विभिन्न वजहों से कुछ राज्यों में अब भी भारी बरसात देखने को मिल रही है। मौसम विभाग ने गुरुवार को चेतावनी दी है कि दक्षिण भारत में 29 और 30 अक्टूबर को दो दिनों तक भारी बारिश का नया दौर शुरू होने वाला है। हालांकि, दक्षिण के अलावा, बाकी जगहों के मौसम में अगले पांच दिनों तक ज्यादा बदलाव देखने को नहीं मिलने वाला। पिछले 24 घंटे की बात करें तो अंडमान और निकोबार द्वीप, नगालैंड, मणिपुर, मिजोरम, त्रिपुरा, अरुणाचल प्रदेश, केरल, माहे, गंगीय पश्चिम बंगाल, ओडिशा समेत कई राज्यों में हल्की से मध्यम बारिश देखने को मिली।

Read More:एक्स गर्लफ्रेंड ने Salman Khan को दी धमकी अब तुम्हारा पर्दाफाश होगा

इन राज्यों में पांच दिनों तक होगी बारिश
मौसम विभाग ने कहा, ”तमिलनाडु, पुडुचेरी, कराईकल, केरल और माहे में अगले पांच दिनों तक हल्की से मध्यम बारिश होगी, जबकि तटीय कर्नाटक और दक्षिणी इंटीरियर कर्नाटक में 29 और 30 अक्टूबर को भारी बारिश देखने को मिलने वाली है। इस दौरान कुछ जगहों पर बिजली कड़कने की और तेज आंधी चलने की भी गतिविधियां देखने को मिल सकती हैं।” इसमें से तमिलनाडु, पुडुचेरी, कराईकल, साउथ इंटीरियर कर्नाटक, केरल और माहे में 29-30 अक्टूबर को भारी बरसात होगी।

केरल के इडुक्की जिले में भारी बारिश
केरल के इडुक्की जिले में भारी बारिश के कारण अधिकारियों ने कुछ छोटे बांधों से पानी छोड़ा, जहां जल स्तर खतरे के निशान के करीब पहुंच गया था। इडुक्की के जिला प्रशासन ने कहा कि पंपला बांध से 500 क्यूमेक्स (क्यूबिक मीटर प्रति सेकेंड) पानी छोड़ने और कल्लार बांध के दो फाटक 10 सेंटीमीटर बढ़ाने की अनुमति दी गई है। प्रशासन ने कहा कि दोनों बांधों के जलग्रहण क्षेत्र में भारी वर्षा और उनके जल भंडारण स्तर में वृद्धि को देखते हुए यह अनुमति दी गई थी। प्रशासन ने पेरियार, कल्लार और चिन्नार नदियों के किनारे रहने वाले लोगों को सतर्क रहने और अधिकारियों द्वारा जारी सुरक्षा निर्देशों का पालन करने की सलाह दी।

Read More:Pension Plan: अब नहीं होगी वित्तीय सुरक्षा की चिंता,टाटा दे रहा है पेंशन और बीमा दोनों का लाभ,जाने क्या है पॉलिसी

मौसम विभाग ने जारी किया था येलो अलर्ट
भारत मौसम विज्ञान विभाग (आईएमडी) ने मंगलवार को इडुक्की और राज्य के तीन अन्य जिलों में ‘येलो अलर्ट’ जारी किया था। भारी बारिश के बाद राज्य के कुछ हिस्सों में भूस्खलन की भी खबरें हैं। स्थानीय अधिकारियों ने कहा था कि भूस्खलन में एक एकड़ से अधिक कृषि भूमि नष्ट हो गई, लेकिन कोई हताहत नहीं हुआ और कोई मकान क्षतिग्रस्त नहीं हुआ। ‘येलो अलर्ट’ का मतलब छह से 11 सेंटीमीटर के बीच भारी बारिश होना है। मौसम संबंधी चेतावनी के लिए आईएमडी चार ‘रंगों के कोड’ का उपयोग करता है, जिसमें ‘हरा’ (कोई कार्रवाई आवश्यक नहीं), ‘पीला’ (देखें और तत्पर रहें), ‘नारंगी’ (तैयार रहें) और ‘लाल’ (कार्रवाई करें) रंग शामिल हैं। स्थिति के अनुसार, इन रंगों के अलर्ट जारी किए जाते हैं जो ‘ग्रीन अलर्ट’, ‘येलो अलर्ट’, ‘ऑरेंज अलर्ट’ और ‘रेड अलर्ट’ होते हैं।

Related Articles

Back to top button