Big Breaking : CBI की टीम ने IFS और रेंजर के घर और दफ्तरों पर की छापेमारी,अवैध पेड़ कटाने और भ्रष्टाचार का आरोप

Big Breaking : उत्तराखंड के कार्बेट टाइगर क्षेत्र में अवैध पेड़ कटाने समेत बड़े भ्रष्टाचार पर विजिलेंस की जांच और कार्रवाई के बाद CBI ने भी मुकदमा दर्ज कर लिया है।

मुकदमा दर्ज करने के बाद CBI की टीम ने आरोपी IFS और रेंजर के घर, प्रतिष्ठानों और दफ्तरों पर छापेमारी की है। CBI की इस कार्रवाई से तय है कि जल्द कुछ बड़े अफसर और नेता भी कार्रवाई की जड़ में आ जाएंगे।

गौरतलब है कि कॉर्बेट पार्क के कालागढ़ टाइगर रिजर्व वन प्रभाग पाखरो में टाइगर सफारी के लिए नियमों को ताक पर रखकर पेड़ों का अवैध कटान, अवैध निर्माण और अन्य कार्यों में बड़ा भ्रष्टाचार हुआ है।

इस मामले के प्रकाश में आने पर मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी के आदेश पर विजिलेंस के हल्द्वानी सेक्टर मे मुकदमा दर्ज किया गया था।

Read More:Ranveer Kapoor के बाद Shraddha Kapoor से ED करेगी पूछताछ, बॉलीवुड के इन कलाकारों को भी भेजा समन

जांच के बाद विजिलेंस ने एक आरोपित रेंजर बृजबिहारी शर्मा को गिरफ्तार किया और इसके बाद 24 दिसंबर को पूर्व DFO किशनचंद को भी गिरफ्तार कर लिया गया था। आरोपितों के विरुद्ध भ्रष्टाचार निवारण अधिनियम की धाराओं में विजिलेंस न्यायालय में आरोपपत्र भी दाखिल कर चुकी है।

विजिलेंस ने इसी वर्ष 30 अगस्त को पूर्व वन मंत्री हरक सिंह रावत के परिवार से संबंधित देहरादून में एक शिक्षण संस्थान और एक पेट्रोल पंप पर भी छापा मारा था।

इसी बीच उच्च न्यायालय के आदेश पर CBI ने विजिलेंस से जांच संबंधी दस्तावेज हासिल किए और आज शुक्रवार को मुकदमा दर्ज कर जांच शुरु कर दी है।

CBI सूत्रों के मुताबिक आज अनियमितता के मामले में आरोपित तत्कालीन प्रभागीय वन प्रभागीय अधिकारी किशनचंद समेत दो आराेपितों पर सेंट्रल ब्यूरो आफ इंवेस्टीगेशन (CBI) ने मुकदमा दर्ज कर लिया।

Read More:Mahadev Gaming App : ED के रडार पर कई बड़े स्टार्स, रणबीर कपूर का बयान का दर्ज करगी ED, श्रद्धा कपूर, सोनाक्षी सिन्हा, इमरान हाश्मी समेत इन पर गिरने जा रही गाज

मुकदमा दर्ज करने के बाद सीबीआइ ने शुक्रवार शाम हरिद्वार में आरोपित किशनचंद के घर और देहरादून में पूर्व रेंजर बृज बिहारी शर्मा के घर दबिश दी।

इस दौरान मामले से जुड़े दस्तावेज कब्जे में लेने की बात बताई जा रही। सूत्र बता रहे कि सीबीआई इस प्रकरण में और आरोपितों को भी नामजद कर सकती है। इस प्रकरण की पूर्व में हुई जांच में तत्कालीन वन मंत्री हरक सिंह रावत की भूमिका पर भी प्रश्न उठाए गए थे।

यहां मिली थी भ्रष्टाचार की शिकायत

उल्लेखनीय है कि, कॉर्बेट में टाइगर सफारी के लिए पेड़ों के अवैध कटान का मामला तब सामने आया था, जब राष्ट्रीय बाघ संरक्षण प्राधिकरण ने इस संबंध में मिली शिकायत की स्थलीय जांच की।

साथ ही शिकायत को सही पाते हुए जिम्मेदार अधिकारियों के विरुद्ध कार्रवाई की संस्तुति की। इस प्रकरण की अब तक कई एजेंसियां जांच कर चुकी हैं।

Read More:Uorfi Javed : ‘मैं एक दिन कपड़े ही नहीं पहनूंगी’, हेटर्स को दिया करारा जवाब

करोडों के घोटाले की चल रही जांच

बात सामने आई कि, सफारी के लिए स्वीकृति से अधिक पेड़ों के कटान के साथ ही बड़े पैमाने पर बिना वित्तीय व प्रशासनिक स्वीकृति के निर्माण कराए गए।

सुप्रीम कोर्ट की उच्चाधिकार प्राप्त समिति ने इस प्रकरण में तत्कालीन वन मंत्री हरक सिंह की भूमिका पर भी प्रश्न उठाते हुए उन्हें भी जिम्मेदार ठहराया था।

भारतीय वन सर्वेक्षण की जांच में यहां छह हजार से ज्यादा पेड़ों के कटान की बात सामने आई थी। मामले में दो आएफएस भी निलंबित किए गए थे।

Related Articles

Back to top button