Assembly Election : चुनाव से पहले मिला खजाना, बेहिसाब कैश ने किया सबको हैरान, अब तक 1760 करोड़ जब्त

Assembly Election : पांच राज्यों में विधानसभा चुनाव चल रहे हैं। इस बीच देशभर में चुनाव आयोग की खानापूर्ती कार्यवाही में नोट बरामद हो रहे हैं। हालांकि नोटों की जप्ती के सिवाय चुनाव आयोग ने गिरफ्तारी या प्रत्याशी के नामांकन रद्द करने जैसी कोई कार्यवाही नहीं की है। जिसे आम लोग दिखावटी कार्यवाही ही मान रहे हैं।

अब इस बीच तेलंगाना से खबर आ रही है। यहां 30 नवंबर को मतदान होना है। जहां गुरुवार को पुलिस ने रंगारेड्डी के गच्चीबाउली में एक कार से पांच करोड़ रुपये कैश बरामद किया है। कार चालकों से कैश के बारे में पूछे जाने पर कैश का कोई हिसाब उपलब्ध नहीं कराया गया। पुलिस ने तीन लोगों को हिरासत में ले लिया है।

Read More : Assembly Election : गारंटी या वादा किसकी बनेगी सरकार, आंकड़ों पर क्यों हो रही असमंजस

Assembly Election : वहीं छत्तीसगढ़ में चुनाव के दौरान बीजेपी नेता के भाई बृजमोहन अग्रवाल के गाड़ी से करोड़ों रुपये किया। बताया जा रहा छत्तीसगढ़ में चुनाव के दौरान लगभग 80 करोड़ रुपये जप्त किये गये हैं।

Assembly Election
Assembly Election

5 राज्यों में चुनाव के ऐलान के बाद से अब तक करीब 1760 करोड़ रुपये का बेहिसाब कैश जब्त किया गया है। यह 2018 में इन 5 राज्यों से मिले कैश का 7 गुना अधिक बताया जा रहा है। चुनाव आयोग राज्य और केंद्र की एजेंसियों के साथ मिलकर इस तरह की कार्रवाई को अंजाम देता है। चुनाव आयोग के मुताबिक, चुनाव ऐलान के बाद एमपी, मिजोरम, छत्तीसगढ़, तेलंगाना और राजस्थान से 1760 करोड़ रुपये से अधिक के कैश जप्त किये गये हैं। जबकि 2018 में इन्हीं राज्यों से 239.15 करोड़ रुपये की जप्त किये गये थे।

Read More : Assembly Election : छत्तीसगढ़-मध्यप्रदेश को लेकर ये क्या कह गये भूपेश बघेल, देखें वीडियो…

Assembly Election : इससे पहले गुजरात, हिमाचल, नगालैंड, मेघालय, त्रिपुरा और कर्नाटक में चुनाव आयोग ने 1400 करोड़ रुपये का बेहिसाब कैश जब्त किया था। यह पिछले चुनाव में जप्त किए गए कैश से 11 गुना था। दिनों दिन चुनाव में कैश जप्ती के मामले बढ़ते जा रहे हैं। हालांकि अभी तक कैश जप्ती के मामले में किसी नेता कि गिरफ्तारी नहीं हो पायी है। साथ ही न किसी उम्मीद्दवार के नामांकन रद्द की गई है। जो चुनाव आयोग पर सवालिया निशान अवश्य लगता है।

 

Related Articles

Back to top button