धमाल ऑफर! Ola ने एक साथ लॉन्च किये 5 इलेक्ट्रिक स्कूटर, फीचर्स ऐसे की लड़कियां हो रहीं दीवानी

देश में कैब सर्विस से अपने सफर की शुरुआत करने वाली OLA अब धीमे-धीमें इलेक्ट्रिक टूव्हीलर का पर्याय बनती जा रही है. कंपनी लगातार अपने व्हीकल पोर्टफोलियो को अपडेट करते हुए नई मजबूती दे रही है. आज स्वतंत्रता दिवस के मौके पर यानी कि 15 अगस्त को जिसे कंपनी हर साल ‘कस्टमर्स डे’ के तौर पर सेलिब्रेट करती है, OLA ने एक साथ 5 नए इलेक्ट्रिक स्कूटरों को लॉन्च किया है. कंपनी ने बाजार में अपने सबसे किफायती मॉडल के तौर पर OLA S1X को लॉन्च किया है, जिसकी शुरुआती कीमत महज 89,999 रुपये (एक्स-शोरूम) तय की गई है. हालांकि आप इसे और सस्ते में भी खरीद सकते हैं-

Read More : Ola का ये नया इलेक्ट्रिक स्कूटर मचाने जा रहा धमाल ,जारी हुआ टीजर

कंपनी के सबसे किफायती मॉडल OLA S1X को कुल तीन वेरिएंट्स में पेश किया गया है, जिसमें S1X+, S1X (3kWh) और S1X (2kWh) शामिल हैं. इनकी कीमत क्रमश: 1,09,999 रुपये, 99,999 रुपये और 89,999 रुपये (एक्स-शोरूम) है. हालांकि ग्राहक इन स्कूटरों को सस्ते में खरीद सकते हैं, यदि आप 21 अगस्त के पहले इनकी बुकिंग करते हैं तो इनकी कीमत क्रमश: 99,999 रुपये, 89,999 रुपये और 79,999 रुपये होगी.

Read More : Scheme : अब बेटियों के जन्म पर घर में छाएंगी डबल खुशियाँ ,सरकार देगी 50,000 रुपये ola

Ola S1 X को लेकर कंपनी का दावा है कि, ये इलेक्ट्रिक स्कूटर सिंगल चार्ज में 151 किलोमीटर तक का ड्राइविंग रेंज देती है. इसकी टॉप स्पीड 90 किलोमीटर प्रतिघंटा है. S1X रेंज की बुकिंग आज यानी 15 अगस्त 2023 से शुरू कर दी गई है हालांकि डिलीवरी को लेकर इनमें थोड़ी भिन्नता है. S1 X+ की डिलीवरी सितंबर से शुरू होगी जबकि S1 X 3kWh और S1 X 2kWh की डिलीवरी दिसंबर महीने से शुरू की जाएगी.

Read More : Electronic scooter: लड़कियों के दिलों पर करने राज आ गया सबसे सस्ता Electronic scooter  ola

ओला ने अपने Ola S1 सीरीज इलेक्ट्रिक स्कूटर के सेकंड जेनरेशन को लॉन्च किया है, हालांकि कंपनी के सीईओ भाविश अग्रवाल ने बताया कि, पिछला जेनरेशन मॉडल भी बिक्री के लिए उपलब्ध होगा. नए जेनरेशन में कंपनी ने कुछ अपडेट किए हैं. मोटर कंट्रोलर को अब मोटर के भीतर ही जगह दी गई है और केले के आकार के बैटरी पैक में अब बहुत कम कंपोनेंट शामिल किए गए हैं. इससे ऑप्टमाइजेशन में 30% तक की वृद्धि होती है. इसके अलावा कंपोनेंट्स के कम होने से स्कूटर की इंजीनियरिंग आसान होने के साथ ही इसका वजन भी कम होता है. स्कूटर के फ़्रेम को भी अपग्रेड किया गया है. अब इसमें ट्यूबलर फ्रेम बजाय नया हाइब्रिड चेसिस दिया जा रहा है.

 

Related Articles

Back to top button